Sukh Karta Dukh Harta Lyrics (Ganesh Ji Ki Aarti)

Sukh Karta Dukh Harta Lyrics – In this article We are given Sukh Karta Dukh Harta Lyrics in Hindi, English, Marathi, Telugu. Within the realm of Hindu spirituality, the enchanting strains of Sukh Karta, Dukh Harta Aarti resound, offering devotion and gratitude to Lord Ganesha, the remover of obstacles and the bestower of joy. This timeless hymn carries deep significance, touching the hearts of countless devotees and fostering a connection with the divine that brings solace and comfort.

Sukh Karta Dukh Harta Lyrics

Sukh Karta Dukh Harta Aarti Lyrics in Hindi

“सुख करता दुख हर्ता, वार्ता विघ्नाची |
नूर्वी पूर्वी प्रेम कृपा जयाची ||

सर्वांगी सुन्दर उटी शेंदु राची |
कंठी झलके माल मुकताफळांची ||

जय देव जय देव

जय देव जय देव जय मंगल मूर्ति
दर्शनमात्रे मनःकमाना पूर्ति .. जय देव जय देव

जय देव जय देव जय मंगल मूर्ति
दर्शनमात्रे मनःकमाना पूर्ति .. जय देव जय देव

रत्नखचित फरा तुझ गौरीकुमरा |
चंदनाची उटी कुमकुम केशरा ||

हीरे जडित मुकुट शोभतो बरा |
रुन्झुनती नूपुरे चरनी घागरिया ||

जय देव जय देव

जय देव जय देव जय मंगल मूर्ति
दर्शनमात्रे मनःकमाना पूर्ति .. जय देव जय देव

जय देव जय देव जय मंगल मूर्ति
दर्शनमात्रे मनःकमाना पूर्ति .. जय देव जय देव

लम्बोदर पीताम्बर फनिवर वंदना |
सरल सोंड वक्रतुंडा त्रिनयना ||

दास रामाचा वाट पाहे सदना |
संकटी पावावे निर्वाणी रक्षावे सुरवर वंदना ||

जय देव जय देव

जय देव जय देव जय मंगल मूर्ति
दर्शनमात्रे मनःकमाना पूर्ति .. जय देव जय देव

जय देव जय देव जय मंगल मूर्ति
दर्शनमात्रे मनःकमाना पूर्ति .. जय देव जय देव

शेंदुर लाल चढायो अच्छा गजमुख को |
दोन्दिल लाल बिराजे सूत गौरिहर को ||

हाथ लिए गुड लड्डू साई सुरवर को |
महिमा कहे ना जाय लागत हूँ पद को ||

जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता .. जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता .. जय देव जय देव

अष्ट सिधि दासी संकट को बैरी |
विघन विनाशन मंगल मूरत अधिकारी ||

कोटि सूरज प्रकाश ऐसे छबी तेरी |
गंडस्थल मद्मस्तक झूल शशि बहरी ||

जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता .. जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता .. जय देव जय देव

भावभगत से कोई शरणागत आवे |
संतति संपत्ति सबही भरपूर पावे ||

ऐसे तुम महाराज मोको अति भावे |
गोसावीनंदन निशिदिन गुण गावे ||

जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता .. जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता .. जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता .. जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता .. जय देव जय देव”

 

Sukh Karta Dukh Harta Aarti Lyrics in Tamil

“மகிழ்ச்சி துன்பத்தை நீக்கும், தடைகள் பற்றிய செய்திகள் |
நுர்வி பூர்வி பிரேம் கிருபா ஜெயச்சி ||

சர்வாங்கி சுந்தர் உதி ஷெந்து ராச்சி |
காந்தி ஜல்கே மால் முக்தபலஞ்சி ||

ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ் ஜெய் மங்கள மூர்த்தி
பார்த்தாலே மனதின் ஆசைகள் நிறைவேறும்.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ் ஜெய் மங்கள மூர்த்தி
பார்த்தாலே மனதின் ஆசைகள் நிறைவேறும்.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ரத்னகாச்சித் ஃபரா துஜ் கௌரிகுமார |
சந்தனாச்சி உதி குங்கும் கேஷரா ||

வைரம் பதித்த கிரீடம் அழகு
ருஞ்சூந்தி நுபுரே சர்னி காக்ரியா ||

ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ் ஜெய் மங்கள மூர்த்தி
பார்த்தாலே மனதின் ஆசைகள் நிறைவேறும்.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ் ஜெய் மங்கள மூர்த்தி
பார்த்தாலே மனதின் ஆசைகள் நிறைவேறும்.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

லம்போதர் பீதாம்பர் ஃபனிவர் வந்தனா |
எளிய சோண்ட் வக்ரதுண்டா திரிநயனா ||

தாஸ் ராமச்ச வட் பஹே சாதனா |
சங்கதி பாவவே நிர்வாணி ரக்ஷவே சுரவர் வந்தனா ||

ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ் ஜெய் மங்கள மூர்த்தி
பார்த்தாலே மனதின் ஆசைகள் நிறைவேறும்.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ் ஜெய் மங்கள மூர்த்தி
பார்த்தாலே மனதின் ஆசைகள் நிறைவேறும்.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஷெந்தூர் லால் சதாயோ அச்சா கஜ்முக் கோ |
டோண்டில் லால் பிராஜே சுட் கௌரிஹர் கோ ||

ஹாத் லியே நல்ல லட்டு சாய் சுர்வார் கோ |
மஹிமா கஹே ந ஜாயே லகத் ஹூன் பட் கோ ||

ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் ஜெய் ஜி கன்ராஜ் வித்யாசுக்தாதா
ஆசீர்வதிக்கப்பட்ட உங்கள் தரிசனம் என் மேட் ரம்தா.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் ஜெய் ஜி கன்ராஜ் வித்யாசுக்தாதா
ஆசீர்வதிக்கப்பட்ட உங்கள் தரிசனம் என் மேட் ரம்தா.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

அஷ்ட சித்தி தாசி சங்கட் கோ பைரி |
விகன் வினாஷன் மங்கள் மூர்த்தி அதிகாரி ||

கோடி சூரஜ் பிரகாஷ் ஐசே சாபி தேரி |
கந்த்ஸ்தல் மத்மஸ்தகா ஜுல் ஷஷி பஹ்ரி ||

ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் ஜெய் ஜி கன்ராஜ் வித்யாசுக்தாதா
ஆசீர்வதிக்கப்பட்ட உங்கள் தரிசனம் என் மேட் ரம்தா.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் ஜெய் ஜி கன்ராஜ் வித்யாசுக்தாதா
ஆசீர்வதிக்கப்பட்ட உங்கள் தரிசனம் என் மேட் ரம்தா.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

பாவ்பகத் சே கோயி ஷரணாகத் ஆவே |
குழந்தைகள் மற்றும் சொத்துக்கள் அனைத்தும் மிகுதியாக கிடைக்கும் ||

ஐஸே தும் மஹாராஜ் மோகோ அதி பாவே |
கோசவிநந்தன் ஒவ்வொரு இரவிலும் அறம் பாடும் ||

ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் ஜெய் ஜி கன்ராஜ் வித்யாசுக்தாதா
ஆசீர்வதிக்கப்பட்ட உங்கள் தரிசனம் என் மேட் ரம்தா.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் ஜெய் ஜி கன்ராஜ் வித்யாசுக்தாதா
ஆசீர்வதிக்கப்பட்ட உங்கள் தரிசனம் என் மேட் ரம்தா.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் ஜெய் ஜி கன்ராஜ் வித்யாசுக்தாதா
ஆசீர்வதிக்கப்பட்ட உங்கள் தரிசனம் என் மேட் ரம்தா.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்

ஜெய் ஜெய் ஜி கன்ராஜ் வித்யாசுக்தாதா
ஆசீர்வதிக்கப்பட்ட உங்கள் தரிசனம் என் மேட் ரம்தா.. ஜெய் தேவ் ஜெய் தேவ்”

Sukh Karta Dukh Harta Aarti Lyrics in Marathi

“सुख दुःख दूर करणारे, अडथळ्यांची वार्ता |
नुरवी पुरवी प्रेम कृपा जयाची ||

सर्वांगी सुंदर उटी शेंदु रची |
कंठी झलके मल मुक्तफळांची ||

जय देव जय देव

जय देव जय देव जय मंगल मूर्ती
दर्शनानेच मनाच्या इच्छा पूर्ण होतात.. जय देव जय देव

जय देव जय देव जय मंगल मूर्ती
दर्शनानेच मनाच्या इच्छा पूर्ण होतात.. जय देव जय देव

रत्नखचित फारा तुज गौरीकुमारा |
चंदनाची उटी कुमकुम केशरा ||

डायमंड जडलेला मुकुट सुंदर आहे
रुंझुंती नुपुरे चारी घागरिया ||

जय देव जय देव

जय देव जय देव जय मंगल मूर्ती
दर्शनानेच मनाच्या इच्छा पूर्ण होतात.. जय देव जय देव

जय देव जय देव जय मंगल मूर्ती
दर्शनानेच मनाच्या इच्छा पूर्ण होतात.. जय देव जय देव

लंबोदर पितांबर फणीवर वंदना |
साधा सोंड वक्रतुंडा त्रिनयना ||

दास रामाचा वाट पाहे सदना |
संकटी पावावे निर्वाणी रक्षावे सुरवर वंदना ||

जय देव जय देव

जय देव जय देव जय मंगल मूर्ती
दर्शनानेच मनाच्या इच्छा पूर्ण होतात.. जय देव जय देव

जय देव जय देव जय मंगल मूर्ती
दर्शनानेच मनाच्या इच्छा पूर्ण होतात.. जय देव जय देव

शेंदूरलाल चढायो अच्छा गजमुख को |
दोंदिल लाल बिराजे सुत गौरीहर को ||

हाथ लिए अच्छा लड्डू साई सुरवर को |
महिमा काहे ना जाये लगत हूँ पद को ||

जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुझे दर्शन माझी मात रमता.. जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुझे दर्शन माझी मात रमता.. जय देव जय देव

अष्ट सिद्धी दासी संकट को बैरी |
विघ्न विनाशन मंगल मूर्त अधिकारी ||

कोटी सूरज प्रकाश ऐसे छबी तेरी |
गंडस्थल मदमस्तका झुल शशी बाहेरी ||

जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुझे दर्शन माझी मात रमता.. जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुझे दर्शन माझी मात रमता.. जय देव जय देव

भवभगत से कोई शरणगत आवे |
संतती आणि संपत्ती सर्व उदंड मिळते ||

ऐसे तू महाराज मोको अति भावे |
गोसावीनंदन रोज रात्री गुण गातो ||

जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुझे दर्शन माझी मात रमता.. जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुझे दर्शन माझी मात रमता.. जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुझे दर्शन माझी मात रमता.. जय देव जय देव

जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता
धन्य तुझे दर्शन माझी मात रमता.. जय देव जय देव”

Sukh Karta Dukh Harta Aarti Lyrics in English

“Happiness makes suffering remover, news of obstacles |
Nurvi Purvi Prem Kripa Jayachi ||

Sarvaangi Sundar Uti Shendu Rachi |
Kanthi Jhalke Mal Muktaphalanchi ||

Jai Dev Jai Dev

Jai Dev Jai Dev Jai Mangal Murti
Fulfillment of mind’s desires only by seeing.. Jai Dev Jai Dev

Jai Dev Jai Dev Jai Mangal Murti
Fulfillment of mind’s desires only by seeing.. Jai Dev Jai Dev

Ratnakhachit fara tujh gaurikumara |
Chandanachi Uti Kumkum Keshara ||

Diamond studded crown is beautiful
Runjhunti Nupure Charni Ghagriya ||

Jai Dev Jai Dev

Jai Dev Jai Dev Jai Mangal Murti
Fulfillment of mind’s desires only by seeing.. Jai Dev Jai Dev

Jai Dev Jai Dev Jai Mangal Murti
Fulfillment of mind’s desires only by seeing.. Jai Dev Jai Dev

Lambodar Pitambar Fanivar Vandana |
Simple Sond Vakratunda Trinayana ||

Das Ramacha Vat Pahe Sadana |
Sankati pavave nirvani rakshave suravar vandana ||

Jai Dev Jai Dev

Jai Dev Jai Dev Jai Mangal Murti
Fulfillment of mind’s desires only by seeing.. Jai Dev Jai Dev

Jai Dev Jai Dev Jai Mangal Murti
Fulfillment of mind’s desires only by seeing.. Jai Dev Jai Dev

Shendur Lal Chadhayo Achcha Gajmukh Ko |
Dondil Lal Biraje Sut Gaurihar Ko ||

Haath Liye Good Laddu Sai Surwar Ko |
Mahima Kahe Na Jaye Lagat Hoon Pad Ko ||

Jai Dev Jai Dev

Jai Jai Ji Ganraj Vidyasukhdata
Blessed is your darshan my mat ramta.. Jai Dev Jai Dev

Jai Jai Ji Ganraj Vidyasukhdata
Blessed is your darshan my mat ramta.. Jai Dev Jai Dev

Ashta Sidhi Dasi Sankat Ko Bairi |
Vighan Vinashan Mangal Murt Adhikari ||

Koti Suraj Prakash Aise Chhabi Teri |
Gandsthal Madmastaka Jhul Shashi Bahri ||

Jai Dev Jai Dev

Jai Jai Ji Ganraj Vidyasukhdata
Blessed is your darshan my mat ramta.. Jai Dev Jai Dev

Jai Jai Ji Ganraj Vidyasukhdata
Blessed is your darshan my mat ramta.. Jai Dev Jai Dev

Bhavbhagat se koi sharanagat aave |
Children and property all get abundant ||

Aise tum maharaj moko ati bhave |
Gosavinandan sings the virtues every night ||

Jai Dev Jai Dev

Jai Jai Ji Ganraj Vidyasukhdata
Blessed is your darshan my mat ramta.. Jai Dev Jai Dev

Jai Jai Ji Ganraj Vidyasukhdata
Blessed is your darshan my mat ramta.. Jai Dev Jai Dev

Jai Jai Ji Ganraj Vidyasukhdata
Blessed is your darshan my mat ramta.. Jai Dev Jai Dev

Jai Jai Ji Ganraj Vidyasukhdata
Blessed is your darshan my mat ramta.. Jai Dev Jai Dev”

The Significance and Meaning Behind Sukh Karta, Dukh Harta Aarti

The Sukh Karta, Dukh Harta Aarti is a heartfelt expression of reverence and thankfulness to Lord Ganesha, whose benevolence brings happiness and alleviates sorrows. Each verse of the Aarti carries profound symbolism, inviting devotees to bask in the divine presence and find strength in times of adversity.

Read Also – Sri Lalitha Sahasranamam Lyrics in Tamil

Unraveling the Legend of Lord Ganesha and King Ravana

Deep-rooted in mythology, the Aarti holds a captivating legend involving Lord Ganesha and the demon king, Ravana. This divine encounter showcases the transformative power of the Aarti, even for those burdened by darkness.

Sage Vishwamitra’s Devotion: The Aarti as an Offering to Lord Rama

Beyond its association with Lord Ganesha, the Aarti has also found its place in the adoration of Lord Rama by the revered sage Vishwamitra. This act of devotion highlights the universal appeal and sanctity of the Aarti.

Leave a Comment